छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में मनरेगा में भ्रष्टाचार

Please Share This News
भ्रष्टाचार होना कोई नई बात नही बिलासपुर में जिला पंचायत कार्यालय का रोजगार सहायक को बर्खास्त किया और सचिव सस्पेंड है वही सरपंच को हटाने के आदेश दिऐ है
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर भ्रष्टाचार होना कोई नई बात नही बिलासपुर में जिला पंचायत कार्यालय का रोजगार सहायक को बर्खास्त किया और सचिव सस्पेंड है वही सरपंच को हटाने के आदेश दिऐ है

यह सभी फर्जी मस्टर रोल बनाने और अनियमितता की जांच में दोषी पाए गये थे  इसके बाद इन पर कार्रवाई की गई है। यह पहला मौका नहीं है जब पंचायत में महत्वपूर्ण पदों पर बैठे तीन व्यक्तियों पर एक साथ कार्रवाई की गई है

कोरोना काल में लॉकडाउन लगा था और मजदूर बाहर से आकर क्वारैंटाइन सेंटरों में रुके हुए थे। उस समय तखतपुर के जुनापारा ग्राम पंचायत में मनरेगा कार्य कराए गए थे। इसे लेकर युवा कांग्रेस नेता रामेश्वरपुरी गोस्वामी ने RTI के तहत जानकारी लेने के बाद जनपद पंचायत में शिकायत की थी। आरोप लगाया था कि मस्टर रोल में ऐसे व्यक्तियों के नाम लिखे गए, जो क्वारैंटाइन सेंटर में हैं। इनमें प्राइवेट अस्पताल के भी कर्मचारी शामिल हैं

सभी पर लगे आरोप सही पाए
शिकायत में यह भी बताया कि यह सभी कभी मनरेगा के काम में नहीं गए। फर्जी मस्टर रोल भरकर शासन को आर्थिक नुकसान पहुंचाया। शिकायत के बाद जांच टीम का गठन किया गया था। जांच में सभी आरोप सही पाए गए। इसके बाद जिला पंचायत ने रोजगार सहायक ओमप्रकाश जायसवाल को बर्खास्त कर दिया। जबकि सचिव अयोध्या प्रसाद तिवारी को सस्पेंड और जुनापारा सरपंच गीता मोती लाल चतुर्वेदी को पद से हटाने के आदेश दिए हैं।

[ays_slider id=1]

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

[poll id]

आज का अपना राशिफल देखें

Get Your Own News Portal Website 
Call or WhatsApp - +91 84482 65129