भरोसे के काबिल नहीं है तालिबान

Please Share This News

अमेरिका और तालिबान के बीच हुए शांति समझौते के बाबत अमेरिकी फौज को अफगानिस्‍तान से हटाने को बॉब तैयार नहीं है। उन्‍होंने अमेरिकी राष्‍ट्रपति से इस बाबत दोबारा विचार करने को कहा है। उन्‍होंने कहा है कि तालिबान पर भरोसा नहीं किया जा सकता है।

वाशिंगटन [एजेंसी ]अमेरिकी सीनेट में विदेश संबंधों वाली कमेटी के अध्‍यक्ष बॉब मनेंडेज ने राष्‍ट्रपति जो बाइडन से अफगानिस्‍तान से अपनी सेना की पूरी तरह से वापसी के फैसले पर दोबारा विचार करने का आग्रह किया है बॉब का कहना है कि उन्‍हें तालिबान की नीयत पर संदेह है वो अपने कहे पर रहने वाला संगठन नहीं है पिछले वर्ष अमेरिका ओर तालिबान के बीच में जो समझौता हुआ था उसके बाद भी तालिबान की तरफ से आतंकी हमले बादस्‍तूर जारी रहे हैं। यही वजह है कि उन्‍होंने राष्‍ट्रपति से इस बाबत एक बार फिर से विचार करने को कहा है

आपको बता दें कि राष्‍ट्रपति जो बाइडन 1 मई तक अफगानिस्‍तान से सभी अमेरिकी जवानों की वापसी की बात कह चुके है उन्होंने ये बात तालिबान के साथ हुए अमेरिका के समझौते के मद्देनजर ही कही थी बॉब ने कहा है कि तालिबान ने 2020 में हुई बैठक के दौरान जिस शांति की बात कही थी वो उस पर खरा नहीं उतरा है उन्‍होंने कहा कि वो अफगानिस्‍तान के भविष्‍य को लेकर काफी चिंतित हैं उन्‍होंने साफ किया है कि वो तालिबान की कही किसी बात का विश्‍वास नहीं करते हैं

गौरतलब है कि अमेरिका और तालिबान के बीच हुए समझौते के बाद अमेरिका धीरे-धीरे अपने जवानों को अफगानिस्‍तान से वापस ले जाएगा और मई तक सभी जवानों की देश वापसी हो जाएगी इस तरह से अफगानिस्‍तान की सेना को ही वहां की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी उठानी होगी हालांकि अमेरिका की तरफ से करीब ढाई हजार जवानों को अफगानिस्‍तान में ही रखने की बात भी सामने आई है जो अफगानिस्‍तान की सेना को ट्रेनिंग देंगे और भविष्‍य के लिए उन्‍हें तैयार करेंगे आपको बता दें कि अमेरिका और तालिबान के बीच फरवरी 2020 में समझौता हुआ था हालांकि इस समझौते में अफगानिस्‍तान की सरकार को शामिल नहीं किया गया था तालिबान का कहना था कि वो सरकार से इस समझौते के बाद ही बात करेगा

[ays_slider id=1]

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

[poll id]

आज का अपना राशिफल देखें

Get Your Own News Portal Website 
Call or WhatsApp - +91 84482 65129