दालचीनी के फायदे और नुकसान जानिए <

Please Share This News

आपने दालचीनी  का नाम जरूर सुना होगा। आमतौर पर लोग दालचीनी का प्रयोग केवल मसालों के रूप में ही करते हैं, क्योंकि लोगों को दालचीनी के फायदे के बारे में पूरी जानकारी नहीं है।  आयुर्वेद में दालचीनी को एक बहुत ही फायदेमंद औषधि के रूप में बताया गया है। आयुर्वेद के अनुसार, दालचीनी के इस्तेमाल से कई रोगों का इलाज  किया जा सकता है।

दालचीनी क्या है? (What is Cinnamon in Hindi?)

दालचीनी (Cinnamon in hindi) एक मसाला है। दालचीनी की छाल तेजपात की वृक्ष छाल से अधिक पतली, पीली, और अधिक सुगन्धित होती है। यह भूरे रंग की मुलायम, और चिकनी होती है। फलों को तोड़ने पर भीतर से तारपीन जैसी गन्ध आती है। इसके फूल छोटे, हरे या सफेद रंग के होते हैं। अगर आप दालचीनी की पत्तियों को मलेंगे तो इससे तीखी गंध आती है। दालचीनी का प्रयोग कई तरह की बीमारियों को ठीक किया जाता है।

अन्य भाषाओं में दालचीनी के नाम 

दालचीनी को दुनिया भर में इन नामों से भी जाना जाता हैः-

  •  –  दालचीनी, दारुचीनी, दारचीनी
  • – ट्रु सिनैमोन (True Cinnamon), सीलोन सिनामोन (Ceylon Cinnamon)
  • – त्वक्, स्वाद्वी, तनुत्वक्, दारुसिता, चोचम, वराङ्ग, भृङ्ग, उत्कट
  • – दारचीनी
  • – दालोचीनी- दारूचीनी
  • – लवङ्ग चक्के – तेजदालचीनी
  • – दालचीनी – तज
  • – लवंग पत्तै
  • – लवंगमु
  • – दारुचीनी
  •  दाचीनी – किरफा
  •  एरिकोलम – वरनम
  •  दालचीनी
  •  दालचीनी – कुखीतगी
  •  दारसीनी- किर्फा- र्क्फाहेसेलेनीयाह
  •  दारचीनी – दारचीनीसेइलनीयाह  तालीखाहे

दालचीनी के फायदे 

पतंजलि के अनुसार, दालचीनी के सेवन से पाचनतंत्र संबंधी विकार, दांत, व सिर दर्द   चर्म रोग, मासिक धर्म की परेशानियां ठीक की जा सकती हैं। इसके साथ ही दस्त  और टीबी में भी इसके प्रयोग से लाभ मिलता है। आप जरूर जान लें कि दालचीनी के इस्तेमाल से कितने प्रकार के फायदे होते हैं, ताकि समय पर दालचीनी का उपयोग कर आप भी फायदा ले सकें।

दालचीनी के फायदे  इस्तेमाल करने के तरीके, और उपयोग की मात्रा यहां दी जा रही हैः-

हिचकी की परेशानी में दालचीनी का सेवन

  हिचकी आना बहुत ही साधारण सी बात है, लेकिन कई ऐसे भी लोग होते हैं, जिन्हें हमेशा हिचकी आने की शिकायत रहती है। ऐसे लोग दालचीनी का उपयोग कर सकते हैं। दालचीनी के 10-20 मिली काढ़ा को पिएं। इससे आराम मिलता है।

हिचकी में चने के फायदे 

भूख को बढ़ाने के लिए दालचीनी का सेवन

500 मिग्रा शुंठी चूर्ण, 500 मिग्रा इलायची   तथा 500 मिग्रा दालचीनी को पीस लें। भोजन के पहले सुबह-शाम लेने से भूख बढ़ती है।

उल्टी को रोकने के लिए दालचीनी का प्रयोग 

दालचीनी का प्रयोग उलटी को रोकने के लिए  भी किया जाता है। दालचीनी, और लौंग का काढ़ा बना लें। 10-20 मिली मात्रा में पिलाने से उल्टी पर रोक लगती है।

उलटी को रोकने का उपाय 

आंखों के रोग में दालचीनी का प्रयोग

अनेक लोग बराबर शिकायत करते हैं कि उनकी आंखें फड़कती रहती हैं। दालचीनी का तेल आंखों के ऊपर (पलक पर) लगाएं। इससे आंखों का फड़कना बन्द हो जाता है, और आंखों की रोशनी भी बढ़ती है।

दांत के दर्द से आराम पाने के लिए दालचीनी का सेवन 

  • जिन लोगों को दांत में दर्द  की शिकायत रहती है, वे लोग दालचीनी का फायदा  ले सकते हैं। दालचीनी के तेल को रूई से दांतों में लगाएं। इससे आराम मिलेगा।
  • दालचीनी के 5-6 पत्तों को पीसकर मंजन करें। इससे दांत साफ, और चमकीले हो जाते हैं।

दालचीनी का प्रयोग कर सिर दर्द से आराम 

  • अगर आप सिर दर्द से परेशान रहते हैं, तो दालचीनी का सेवन करें। दालचीनी के 8-10 पत्तों को पीसकर लेप बना लें। दालचीनी के लेप को मस्तक पर लगाने से ठंड, या गर्मी से होने वाली सिर दर्द से आराम मिलता है। आराम मिलने पर लेप को धोकर साफ कर लें।
  • दालचीनी के तेल से सिर पर मालिश करें। इससे सर्दी की वजह से होने वाले सिरदर्द से आराम मिलती है।
  • दालचीनी,तेजपत्ता , तथा चीनी को बराबर-बराबर मात्रा में मिला लें। इसे चावल  के धोवन (चावल को धोने के बाद निकाला गया पानी) से पीस कर बारीक चूर्ण बना लें। इसे नाक के रास्ते लें। इसके बाद गाय के घी को भी नाक के रास्ते लें। इससे सिर से संबंधित विकारों में आराम मिलता है।
  • आप तंत्रिका-तंत्र संबंधी परेशानियों के लिए दालचीनी के तेल को सिर पर लगाएं। इससे फायदा होता है।

 

[ays_slider id=1]

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

[poll id]

आज का अपना राशिफल देखें

Get Your Own News Portal Website 
Call or WhatsApp - +91 84482 65129