हबीबगंज स्टेशन अब रानी कमलापति के नाम

Please Share This News
7 पत्नियों में राजा को सबसे प्रिय थीं गोंड रानी; पति की हत्या का बदला लिया था

भोपाल में देश का पहला वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन हबीबगंज बनकर तैयार हो गया है। हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम अब रानी कमलापति स्टेशन हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 नवंबर को इसका लोकार्पण करेंगे। बता दें रानी कमलापति भोपाल की अंतिम गोंड आदिवासी शासक थीं।

इतनी खूबसूरत कि तुलना परियों से होती थी
16वीं शताब्दी में गोंड शासकों का भोपाल पर शासन था। कमलापति की शादी भोपाल से 50 किलोमीटर दूर स्थित गिन्नौरगढ़ रियासत के गोंड राजा निजाम शाह से हुई थी। वो निजाम की सात पत्नियों में से एक थीं। कहा जाता है कि सातों पत्नियों में कमलापति राजा की सबसे प्रिय रानी थीं और ऐसा उनकी खूबसूरती की वजह से था। वो इतनी खूबसूरत थीं कि उनकी तुलना परियों से की जाती थी। उस वक्त एक कहावत काफी प्रचलित थी कि ‘ताल है तो भोपाल ताल और रानी हैं तो कमलापति’

रानी की खूबसूरती जब उनके लिए मुसीबत बन गई
आलम शाह, निजाम शाह का भतीजा था और उसका शासन बाड़ी पर था। आलम को अपने चाचा निजाम शाह से काफी ईर्ष्या थी। निजाम शाह की दौलत, संपत्ति पर तो उसकी नजर थी ही, लेकिन कमलापति की खूबसूरती पर भी वह मरता था। रानी की सुंदरता से वो खुद को बचा नहीं पाया। कहते हैं कि आलम शाह रानी कमलापति पर फिदा था और उसने रानी से अपने प्यार का इजहार भी किया था, लेकिन रानी ने उसके प्यार को ठुकरा दिया था।

जलन में आलम शाह ने एक दिन अपने चाचा को खाने में जहर मिलाकर खिला दिया। राजा निजाम की मौत हो गई। पति की मौत के बाद खुद और अपने बेटे नवल शाह को सुरक्षित रखने के लिए रानी ने गिन्नौरगढ़ छोड़ दिया। इकलौते बेटे के साथ वो भोपाल के रानी कमलापति महल में रहने लगीं। वो आलम शाह से पति की मौत का बदला लेना चाहती थीं लेकिन ना तो उनके पास संसाधन थे और ना ही फौज। ऐसे में वो हरदम इस उधेड़बुन में होती थीं कि कैसे इसे पूरा किया जाए।

मछली पकड़ने के शौक ने रानी-मोहम्मद को दोस्त बनाया
मोहम्मद खान जगदीशपुर पर हुकूमत कर रहा था। इसके अलावा वो एक तनख्वादार मुलाजिम था, जो पैसे के बदले लोगों की मदद किया करता था। वो कभी-कभी जगदीशपुर से भोपाल के बड़े तालाब में मछलियों का शिकार करने आया करता था। उस वक्त यह तालाब रानी की जागीर हुआ करता था और यहां मछलियों का शिकार करना मना था। जब यह बात रानी तक पहुंची तो उन्होंने आदेश दिया कि अगर अगली बार मोहम्मद शिकार करने आए तो उन्हें उनके सामने पेश किया जाए। कुछ दिनों बाद मोहम्मद खान फिर शिकार करने आए और उन्हें रानी के दरबार में पेश किया गया। कहा जाता है कि रानी कमलापति शिकायत भूल मोहम्मद खान की दोस्त बन गईं। बाद में उन्होंने मोहम्मद को अपने पति की मौत के बारे में बताया और बदला लेने के लिए मदद मांगी।

पहले की मदद, फिर रानी के बेटे को ही मार दिया
मोहम्मद खान पैसे के बदले लोगों की मदद करता था और ऐसी ही शर्त उसने रानी के सामने भी रखी। एक लाख रुपए की रकम तय हुई। फिर दोस्त मोहम्मद ने बाड़ी पर हमला कर आलम शाह को मार दिया। रानी का बदला तो पूरा हुआ, लेकिन शर्त के अनुसार तय राशि वो मोहम्मद को नहीं दे पाईं। एक लाख के बदले में रानी ने दोस्त मोहम्मद को भोपाल का एक हिस्सा दिया, लेकिन मोहम्मद की इच्छा इतने पर खत्म ना हुई वो भोपाल पर शासन करना चाहता था।

भोपाल पर कब्जा करने के लिए उसने रानी कमलापति के बेटे नवल शाह से युद्ध किया। ऐसा कहा जाता कि उस युद्ध में इतना खून बहा कि वहां की धरती लाल हो गई थी और उसी वजह से उस जगह को लालघाटी बुलाते हैं। इस युद्ध में नवल शाह को मोहम्मद ने हराकर भोपाल पर कब्जा कर लिया।

स्टेशन:MP सरकार के नोटिफिकेशन जारी करते ही प्लेटफॉर्म पर बोर्ड बदले, रविवार को आएंगे रेल मंत्री

भोपाल के हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम रानी कमलापति रेलवे स्टेशन करने का नोटिफिकेशन जारी होते ही स्टेशन पर नाम बदलना शुरू हो गया है। अभी प्लेटफॉर्म पर हबीबगंज की जगह अब रानी कमलापति रेलवे स्टेशन नाम के स्टीकर लगाना शुरू कर दिया गया है। इसके अलावा रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव रविवार को भोपाल आएंगे। वे रानी कमलापति स्टेशन (अभी हबीबगंज रेलवे स्टेशन) के लोकार्पण की तैयारियों के संबंध में रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। जानकारी के अनुसार रेल मंत्री वैष्णव रविवार रात 9:30 बजे मुंबई से भोपाल पहुंचेंगे। इसके बाद रात 10 बजे वे वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन हबीबगंज (अब रानी कमलापति ) रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करेंगे। लोकार्पण कार्यक्रम को अंतिम रूप देंगे।

फिलहाल प्लेटफॉर्म नंबर 1 ही बदलाव

मोदी के कार्यक्रम को देखते हुए फिलहाल हबीबगंज स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 1 के आउटर और प्लेटफॉर्म नंबर एक पर ही यह नाम बदला गया है। अन्य प्लेटफार्म और सेकंड एंट्री पर अभी कोई बदलाव नहीं हुआ है। बाहर भी रानी कमलापति रेलवे स्टेशन नाम का बैनर लगा दिया है। साथ ही, हबीबगंज नाम को कपड़े से ढंका जा रहा है। स्टेशन पर बाहर की तरफ लगे बोर्ड को भी जल्द ही बदल दिया जाएगा। स्टेशन का पुनर्निर्माण करने वाली बंसल पाथवे प्राइवेट लिमिटेड के प्रोजेक्ट डायरेक्टर अबु आसिफ ने बताया कि अभी प्लेटफॉर्म की पर लगी पट्‌टिका पर ही नए नाम के स्टीकर लगाए गए हैं।

एक दिन पहले ही भारत सरकार ने मंजूरी दी
भोपाल के पहले वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन के रूप में बनकर तैयार हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम एक दिन पहले ही बदलने की मंजूरी भारत सरकार ने दी थी। मध्यप्रदेश के परिवहन विभाग ने 15 नवंबर को होने वाले उद्घाटन के पहले ही इसके नाम को बदलने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा था।

उनके प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के 24 घंटे के अंदर ही प्रदेश सरकार ने नोटिफिकेशन जारी कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 नवंबर को इसका लोकार्पण करेंगे। इससे पहले स्टेशन का नाम भी बदल दिया गया है।​ बता दें कि रानी कमलापति भोपाल की अंतिम गोंड आदिवासी शासक थीं।

प्रदेश सरकार ने गजट नोटिफिकेशन जारी कर दिया है।
प्रदेश सरकार ने गजट नोटिफिकेशन जारी कर दिया है।

हबीबगंज स्टेशन का नया कोड RKMP
हबीबगंंज स्टेशन का नाम रानी कमलापति किए जाने के बाद रेलवे ने नया कोड भी जारी कर दिया है। पश्चिम-मध्य रेलवे ने शनिवार को जारी आदेश नया अल्फा कोड RKMP दिया है। अभी तक हबीबगंज का कोड HBJ था।

 

[ays_slider id=1]

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

[poll id]

आज का अपना राशिफल देखें

Get Your Own News Portal Website 
Call or WhatsApp - +91 84482 65129