फरीदाबाद मर्डर में बेटी खो चुका परिवार बोला- बेटियों को मरना ही है तो 20 साल क्यों पालें? गर्भ में ही मारने की इजाजत दे दो

Please Share This News


फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में 21 साल की निकिता की उस वक्त हत्या कर दी गई, जब वो कॉलेज से पेपर देकर लौट रही थी। आरोपी तौसीफ उसे किडनैप करना चाहता था, चाहता था कि निकिता धर्म बदल दे। लड़की ने इनकार किया तो कनपटी पर गोली मार दी। निकिता का परिवार इंसाफ मांग रहा है। भास्कर जब निकिता के घर पहुंचा तो वहां रोती हुई औरतों ने कहा कि जब बेटियों को मरना ही है तो इन्हें 21 साल क्यों पालें, इन्हें तो गर्भ में मारने की इजाजत दे दो…

पीड़ित परिवार के लोगों ने कहा है कि आरोपी तौसीफ, निकिता से राहुल राजपूत बनकर मिला था। वह सांइस स्ट्रीम का छात्र था, जबकि निकिता काॅमर्स की। इसलिए दोनों की कक्षाएं अलग-अलग थीं। आरोपी युवक निकिता से एक साल आगे था। जब निकिता को तौसीफ की असलियत पता चली तो उससे किनारा कर लिया। यही बात उसे अखर गई और निकिता को अपनी बनाने के लिए ठान लिया।

निकिता की मौसेरी बहन राखी ने कहा कि आरोपियों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए।

निकिता की मौसी मधु और मौसेरी बहन राखी ने हमसे कहा- निकिता बहुत मेहनती थी। पेपर देने से पहले वो रात 2 बजे तक पढ़ रही थी। सुबह 8 बजे उठी तो भी पढ़ाई की। घर के काम में भी मां का हाथ बंटाया। बहुत हंसमुख थी, हर वक्त चेहरे पर हंसी दिखती थी। पिछले साल एक शादी में पूरा परिवार जुटा था। हमने खूब इन्जॉय किया। ऐसा ही एक और मौका घर में आने वाला था।

पिछले साल मौसेरे भाई की शादी में घुड़चढ़ी पर नाचती निकिता और मौसेरी बहन राखी। -फाइल फोटो

राखी ने कहा, “7 दिसंबर को मामा की शादी होनी है। निकिता इसके लिए बहुत तैयारियां कर रही थी। क्या पहनना है, कब जाना है, सारी तैयारियां शुरू कर दी थीं। मेरी बहन निकिता मेरी सहेली से बढ़कर थी। एक बार फिर हम साथ वक्त गुजारते, पर वो पूरे परिवार को रुलाकर चली गई। उसका कोई कसूर नहीं था। एकतरफा प्यार के फितूर का शिकार हो गई। हमारी आंखों में आंसू लाने का काम करने वाले को कड़ी से कड़ी सजा देनी चाहिए।”

सरकार के दावों पर सवाल उठाती निकिता की मौसी मधु।

निकिता की मौसी मधु ने कहा- सरकार बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा तो देती है, लेकिन अगर इसी तरह हैवानों का शिकार बेटियों को बनना है तो फिर पाल-पोसकर बड़ा करने का क्या फायदा? सरकार अल्ट्रासाउंड सेंटरों को लिंग जांच की खुली छूट क्यों नहीं दे देती?

पहले ही पता चल जाए तो 9 महीने गर्भ में क्या रखना? क्यों दुनिया में लेकर आएं? क्यों 20 साल तक उसकी परवरिश करें, अगर आखिर में उन्हें इसी तरह चले जाना है? दावे करने वाली सरकार को बेटियों की सुरक्षा के लिए कदम उठाने चाहिए। जैसा हमारी निकिता के साथ हुआ है, ऐसा किसी और की बेटी के साथ न हो। गुंडों को कड़ी सजा दिया जाना वक्त की जरूरत है।

मेवात के कांग्रेस विधायक आफताब अहमद, जो आरोपी तौसीफ के चचेरे भाई हैं।

तौसीफ के विधायक भाई बोले- जुर्म करने वालों को कड़ी सजा मिले
फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ में सोमवार को पेपर देकर लौट रही 21 साल की निकिता की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। आरोप नूह से कांग्रेस विधायक आफताब अहमद के चचेरे भाई तौसीफ पर है। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके दोस्त रेहान को भी गिरफ्तार किया गया है। बसपा नेता जावेद अहमद ने कहा कि हम पीड़ित लड़की के परिवार के साथ हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Faridabad Nikita Murder Case: Nikita’s family said-daughters have to die, then why should they spend 20 years, the government should allow them to kill in the womb

[ays_slider id=1]

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

[poll id]

आज का अपना राशिफल देखें

Get Your Own News Portal Website 
Call or WhatsApp - +91 84482 65129